Wednesday, 21 August 2013

आग और बर्फ


चार पुलित्ज़र पुरस्कारों के विजेता रहे रोबर्ट फ्रॉस्ट ( मार्च २६, १८७४- जनवरी२९, १९६३ ) अमेरिका के सर्वाधिक ख्याति व आदर प्राप्त कवियों में शुमार हैं। सरल प्राकृतिक जीवन से प्रेरित उनकी अधिकाँश रचनाओं में उनके विचारों की गहनता और सूक्ष्म विश्लेषण क्षमता परिलक्षित होती है।  प्रस्तुत है उनकी एक कविता ' Fire and Ice ' का हिंदी अनुवाद। 

आग और बर्फ 

कुछ लोगों का मानना है ये दुनिया ताप से नष्ट होगी 
कुछ कहते हैं शीत से 
जितना मैंने इच्छाओं को जिया है 
मैं उन के साथ हूँ जो अग्नि के पक्षधर हैं । 
किन्तु यदि दो बार विनष्ट होना पड़े 
तो मैं सोचता हूँ मैं नफरत को बखूबी पहचानता हूँ 
जो कह सकूं इस कार्य हेतु बर्फ 
सक्षम भी है                                                                                      
र्याप्त भी । 

**********

रोबर्ट फ्रॉस्ट 
अनुवाद - मीता 
_______________________
Fire and Ice 

Some say the world will end in fire,
Some say in ice.
From what I’ve tasted of desire
I hold with those who favor fire.
But if it had to perish twice,
I think I know enough of hate
To say that for destruction ice
Is also great
And would suffice.


Robert Frost .
_____________

3 comments:

अनुपमा पाठक said...

Beautifully translated!

sushma 'आहुति' said...

बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.........

शिवनाथ कुमार said...

सुन्दर अनुवाद
पढवाने के लिए आभार आपका !

Post a Comment